ads

Breaking News

व्रत कथाएं VRAT KATHAYEN IN HINDI

 जिउतिया व्रत की कथाएं 
हर माता के लिए उसके संतान से किमती चीज कुछ नहीं होती. हर माँ चाहती है की उसका पुत्र दीर्घायु रहे . इसी क्रम में संतान के लिए हर माता  जीवित पुत्रिका व्रत या जिउतिया रखती हैं. जिउतिया अश्विन मास  के अष्टमी के दिन रखा जाता है लेकिन इसकी तयारी  सप्तमी से ही शुरू  हो जाती है।  READ MORE